Team India के कोच पर युवराज का बड़ा हमला, कहा- जिसने खुद नहीं खेला, वो खिलाड़ियों को कैसे सिखाएगा

yuvraj raised questions on team india batting coach, yuvraj singh live

कोरोना वायरस का असर हर तरफ देखने को मिल रहा है. कोरोना संक्रमण के प्रकोप को रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन लागू है. लॉकडाउन की वजह से आम लोगों से लेकर सेलिब्रिटी तक हर कोई अपने घर में ही क्वारंटाइन में है. ऐसे में क्रिकेट के तमाम दिग्गज खिलाड़ी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव नजर आ रहे हैं. वो इस दौरान फैन्स के साथ जुड़ने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे.

हाल ही में टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर खिलाड़ी युवराज सिंह भी इंस्टाग्राम पर एक लाइव सेशन का हिस्सा बने. इस दौरान युवी ने टीम इंडिया के बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ के टी-20 क्रिकेट में खिलाड़ियों का मार्गदर्शन कर पाने की क्षमता पर सवाल उठाए. युवराज सिंह ने कहा है कि टीम इंडिया को एक मनोवैज्ञानिक की जरूरत है, जो ऋषभ पंत और हार्दिक पांड्या जैसे युवा खिलाड़ियों का मार्गदर्शन कर सकें.

‘हर खिलाड़ी होता है अलग’

इस लाइव सेशन में युवराज सिंह ने कहा- ‘टीम में ऐसा कोई भी नहीं है जो खिलाड़ियों से मानसिकता को लेकर बात करें. पृथ्वी शॉ और ऋषभ पंत जैसे खिलाड़ी काफी प्रतिभाशाली है, लेकिन आपको कोई ऐसा चाहिए होता है जो आपसे बात कर सके. भारतीय टीम को एक अच्छे मनोवैज्ञानिक की जरुरत है.”

यह भी पढ़े: भज्जी और युवराज से Pak खिलाड़ी ने की मांग, कहा- पाकिस्तानी अल्पसंख्यकों का भी दें साथ

युवी ने आगे कहा- ‘हर खिलाड़ी के साथ अलग-अलग तरीके से पेश आना होता है. अगर मैं कोच होता तो बुमराह को रात 9 बजे गुडनाइट बोलता और रात 10 बजे हार्दिक पांड्या को बाहर ड्रिंक्स के लिए ले जाता.’ उन्होनें कहा- ‘पांड्या में काफी प्रतिभा है. उनके साथ किसी को उनकी मानसिकता के हिसाब से काम करने की जरुरत है, जिससे वो मुश्किल समय में भी अच्छा खेल सकें. अगर कोई ऐसा करता हैं तो वो अगले विश्व कप में एक बड़े खिलाड़ी साबित हो सकते हैं.’

युवराज सिंह ने कहा- ‘टीम इंडिया ने रवि शास्त्री के मार्गदर्शन में काफी अच्छी प्रदर्शन किया और ऑस्ट्रेलिया से जीती भी. वो एक कोच के तौर पर कैसे हैं मैं इसके बारे में नहीं जानता क्योंकि मैं उनके मार्गदर्शन में कम खेला हूं. मुझे पता कि हर खिलाड़ी के साथ एक जैसा बर्ताव नहीं कर सकते. हर खिलाड़ी अलग होता हैं और कोचिंग स्टाफ में मैं इस चीज की कमी देखता हूं.’

यह भी पढ़े: युवराज ने गांगुली को BCCI अध्यक्ष बनने पर दी बधाई, कहा- आप काश उस वक्त होते जब…

विक्रम राठौड़ पर उठाए सवाल

युवराज ने टीम इंडिया के बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ पर सवाल भी उठाए. उन्होनें कहा वो मेरे अच्छे दोस्त और सीनियर रहे हैं. लेकिन क्या वो मौजूदा दौर में टी-20 खिलाड़ियों की मदद कर सकते हैं. उसने उस स्तर पर कभी क्रिकेट खेला ही नहीं है. बता दें कि विक्रम राठौड़ ने टीम इंडिया के लिए साल 1996 से 1997 के बीच 6 टेस्ट और 7 वनडे खेले हैं. वो पिछले साल संजय बांगड़ की जगह भारतीय टीम के बैटिंग कोच बनाए गए थे.

चयन समिति पर भी बोला हमला

इतना ही नहीं युवराज ने सुनील जोशी की अध्यक्षता वाली चयन समिति पर भी सवाल उठाए. उन्होनें कहा कि मैं हमेशा ये कहता आया हूं कि चयनकर्ताओं को फैसलों को चुनौती देने वाला होना चाहिए, लेकिन जब आपके चयनकर्ताओं ने ही बस चार-पांच वनडे मैच ही खेले हों, तो उनकी मानसिकता उसी तरह की होगी. ऐसी चीजें तब नहीं हुआ करती थीं जब गांगुली और धोनी कप्तान थे. साल 2011 में विश्व कप के दौरान हमारे पास एक अच्छी अनुभवी टीम थी.

यह भी पढ़े: भज्जी ने नंबर-4 के लिए संजू सैमसन का नाम सुझाया, तो युवराज ने यूं उड़ाया टीम का मजाक