राम मंदिर के भूमि पूजन में किन बहुमूल्य सामग्रियों का होगा उपयोग ?

राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की तारीख नजदीक आ रही है. ऐसे में अयोध्या ख़ुशी से झूम रही है. 5 अगस्त को होने वाले आयोजन की तैयारियां जोरों पर हैं. यहां होने वाले अनुष्ठान का दायित्व काशी के विद्वानों को सौंपा गया है.

ram mandir bhoomipoojan

राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की तारीख नजदीक आ रही है. ऐसे में अयोध्या ख़ुशी से झूम रही है. 5 अगस्त को होने वाले आयोजन की तैयारियां जोरों पर हैं. यहां होने वाले अनुष्ठान का दायित्व काशी के विद्वानों को सौंपा गया है. मिली जानकारी के मुताबिक ऐसी काफी सारी बहुमूल्य चीजें हैं जिनका उपयोग भूमिपूजन के दौरान किया जाएगा. ये भी बताया गया है कि इस दौरान एक मन चांदी की रजत शिला भी स्थापित की जायेगी. ऐसे में लोगों में इस बात का कौतहूल है कि आखिर और ऐसी कौन सी सामग्री है जिनसे राममंदिर का भूमिपूजन किया जाएगा.

डाले जायेंगे चांदी के पांच सिक्के

काशी विद्वत परिषद के मंत्री और बीएचयू के संस्कृत विद्या धर्म संकाय ज्योतिष विभाग के प्रोफेसर पंडित रामनारायण द्विवेदी ने. प्रोफेसर द्विवेदी के मुताबिक भूमिपूजन की नींव में पंच रत्न – मूंगा, पन्ना, नीलम, माणिक्य और पुखराज डाले जायेंगे. साथ ही बाबा विश्वनाथ को चढ़ाये हुए पांच रजत बेलपत्र और पांच चांदी के सिक्कों का भी उपयोग होगा. डॉक्टर द्विवेदी के मुताबिक ये पांच सिक्के नंदा, जया, भद्रा, रिक्ता और पूर्णा के प्रतीक होंगे.

ये भी देखें : अयोध्या में भूमिपूजन से पहले कोरोना का काला साया, पुजारी समेत इतने दर्जन पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट पॉजिटिव

शेष नाग की प्रतिकृति भी शामिल

करीब 400 साल बाद रामजन्मभूमि पर राम मंदिर का निर्माण होने जा रहा है. ऐसे में इस अवसर को ख़ास बनाने के लिए शहर के बड़े बड़े पुजारी से लेकर भक्त कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. डॉक्टर द्विवेदी ने बताया कि अनुष्ठान के लिए ताम्र कलश में पांच नदियों का पवित्र जल भरा जाएगा. साथ ही नींव में पाताल लोक के मालिक और पृथ्वी को अपने फन पर धारण करने वाले शेषनाग की प्रतिकृति भी नींव में डाली जाएगी. ये प्रतिकृति सोने की होगी. साथ ही भूमि पूजन में चांदी के कच्छप की प्रतिकृति का भी इस्तेमाल किया जाएगा. बता दें कि भूमि पूजन का अनुष्ठान प्रोफेसर द्विवेदी ही संपन्न करा रहे हैं.

ये भी देखें : 5 अगस्त के दिन अयोध्या में अपना 29 साल पुराना वादा पूरा करने आयेंगे पीएम!

देश के अलग स्थानों से लायी जायेगी मिट्टी

प्रोफ़ेसर द्विवेदी 3 अगस्त को ही अयोध्या पहुंच जाएंगे. साथ ही उनके साथ दो अन्य विद्वान होंगे. बता दें कि 5 अगस्त को भूमिपूजन होना है जिसमें पीएम मोदी भी शरीक होंगे. इसके लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में तैयारियां चल रही है. वहीं देश के अलग-अलग स्थानों से नदियों का पवित्र जल और मिट्टी लाने की प्रक्रिया भी जारी है.