“नहीं भूले उस काले दिन की बेइज्जती..कश्मीर के लिए..”, 14 महीनों बाद रिहा हुई महबूबा मुफ्ती, कही ये बातें…

MEHBOOBA MUFTI RELEASED

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती को मंगलवार रात को रिहा कर दिया गया है। महबूबा मुफ्ती को जन सुरक्षा कानून (PSA) के तहत हिरासत में रखा गया था। 5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से धारा-370 हटाए जाने के बाद उनको हिरासत में ले लिया था। अब करीबन 14 महीनों बाद मुफ्ती को रिहा किया गया है। रिहा होने के बाद महबूबा मुफ्ती ने एक वीडियो संदेश जारी किया हैं, जिसमें उन्होनें 5 अगस्त को ‘काला दिन’ बताते हुए कश्मीर के लिए संघर्ष जारी रखने की बात कही है।

रिहा होने के बाद जारी किया वीडियो संदेश

एक मिनट 23 सेकेंड के इस वीडियो संदेश में महबूबा मुफ्ती ने कहा कि “मैं एक साल से भी ज्यादा अरसे के बाद रिहा हुई हूं। इस दौरान 5 अगस्त के काले दिन का काला फैसला मेरे दिल और रूह पर हर पल वार करता रहा। मुझे एहसास हैं कि यही कैफियत जम्मू-कश्मीर के तमाम लोगों की रही होगी।”

यह भी पढ़े: ‘आज खुद को भारतीय नहीं मानते कश्मीरी, वो चाहते हैं कि चीन…’ फारूक अब्दुल्ला का बड़ा बयान!

‘कश्मीर पर संघर्ष जारी रहेगा’

महबूबा मुफ्ती ने आगे कहा कि “हम में से कोई भी शख्स उस दिन की डाकाजनी और बेइज्जती को भूला नहीं सकता। अब हम सबको इरादा करना होगा कि जो दिल्ली दरबार ने 5 अगस्त को गैर कानूनी तरीके से हमसे छीन लिया उसे वापस लेना होगा। इसके साथ साथ कश्मीर जिसकी वजह से हजारों लोगों ने अपनी जानें दी उसको हल करने के लिए हमें अपनी जद्दोजहद जारी रखनी होगी।”

महबूबा मुफ्ती आगे बोली “मैं मानती हूं कि ये राह आसान नहीं होगी लेकिन मुझे यकीन हैं कि हम सबका हौसला ये दुश्वार रास्ता तय करने में हमारी मदद करेगा। अब जब मुझे रिहा कर दिया गया हैं, मैं चाहती हूं कि जम्मू-कश्मीर के जितने भी लोग जेलों में बंद हैं, उनको भी जल्द से जल्द रिहा किया जाए।”

यह भी पढ़े: ‘अब PoK को खाली करने की बारी…’ संयुक्त राष्ट्र में इमरान खान के कश्मीर पर ‘झूठ’ का भारत ने यूं दिया करारा जवाब

कई बड़े नेताओं को दिया था हिरासत में…

आपको यहां ये बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में महबूबा मुफ्ती को हिरासत में जुड़े मामले पर अगली सुनवाई से दो दिन पहले रिहा किया गया है। इससे पहले 29 सितंबर को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन को महबूबा मुफ्ती की हिरासत पर अपना रूख स्पष्ट करने के लिए दो हफ्तों का वक्त दिया था। आपको बता दें कि इस साल 31 जुलाई को उनकी हिरासत तीन महीनों के लिए बढ़ाई गई थी।

पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटाया गया था। इसी दौरान PSA के तहत कई लोगों को हिरासत में ले लिया गया था। महबूबा मुफ्ती के अलावा फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला को भी हिरासत में रखा गया था। इन दोनों नेताओं को मार्च में ही रिहा कर दिया गया था।

यह भी पढ़े: पाकिस्तान की हरकतों की खुली पोल! कश्मीर के खिलाफ बोलने के लिए इस ब्रिटिश समूह को दी थी इतने रुपयों की घूस