‘आप दूध के धूले नहीं…हावी हुए तो…’, बीजेपी पर जमकर बरसे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, जानिए क्या-क्या कहा?

uddhav attack bjp

महाराष्ट्र के बीजेपी नेताओं द्वारा की गई बयानबाजी को लेकर राजनीति गर्माई हुई है। बीजेपी नेता रावसाहेब दानवे पाटिल ने हाल ही में दावा किया कि राज्य में दो-तीन महीनों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार बनेगी। वहीं इस पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस बार शपथ ग्रहण समारोह सुबह नहीं होगा, सही समय पर होगा।

जिसके बाद अब ये सवाल उठने लगे है कि क्या महाविकास अघाड़ी के एक साल पूरे होने के बाद अब उद्धव के नेतृत्व वाली ये सरकार गिर जाएगी? इसी बीच अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इन सभी बातों पर अपनी प्रतिक्रिया भी दी। सरकार के एक साल पूरे होने पर ठाकरे ने शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में संजय राउत को एक इंटरव्यू दिया, जिसमें वो बीजेपी पर जमकर बरसते हुए नजर आए।

यह भी पढ़े: महाराष्ट्र की सत्ता में फिर होगी बीजेपी में वापसी? फडणवीस के इस बयान ने बढ़ा दी हलचल

‘…हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊंगा’

केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग करने की बात कहते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं शांत हूं, जिसका मतलब ये नहीं कि मैं नामर्द हूं। उद्धव ठाकरे ने कहा कि जिस तरह हमारे लोगों के परिजनों पर हमले हुए। ये महाराष्ट्र का तरीका नहीं है। आपके भी परिवार और बच्चे हैं। आप दूध के धुले नहीं हो। आपकी खिचड़ी कैसे बनानी है ये हम बनाएंगे। ज्यादा हावी हुए, तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊंगा।’

जब राउत ने ठाकरे से पूछा कि हर कोई ये कह रहा है कि सरकार अपने बोझ से गिर जाएगी, इस पर आपका क्या कहना है? जिसके जवाब में सीएम उद्धव ने कहा कि जो लोग ये कह रेह हैं उनकी दांत गिर जाएगी। गठबंधन में सबकुछ सही चल रहा है। किसी पर भी बोझ नहीं है। सरकार नहीं गिरेगी।

यह भी पढ़े: ‘भारत में होगा कराची’, ‘भारत-पाकिस्तान-बांग्लादेश का करें विलय’…महाराष्ट्र के नेता क्यों कर रहे ऐसी बयानबाजी?

‘मौत पर की राजनीति’

सुशांत केस पर भी बीजेपी द्वारा की गई राजनीति पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होनें कहा कि मैं उनकी तरफ करुणा भरी नजर से देखता हूं। जिन्हें लाश पर रखे मक्खन बेचने की जरूरत पड़ती है, वे राजनीति करने के लायक नहीं हैं। एक शख्स की दुर्भाग्य से मौत हो गई और उस पर आप राजनीति करते हो, कितने निचले स्तर पर गिर गए हो। ये गंदी राजनीति की विकृति है। हम जिसको मर्द कहते हैं, वो मर्द की तरह लड़ता है। उस पर अलाव जलाकर आप अपनी रोटियां सेंकते हो?… ये आपकी औकात है?’

‘मेरे खून और नसों में हिंदुत्व’

इसके अलावा इस इंटरव्यू में उद्धव ठाकरे ने लव जिहाद पर कानून, हिंदुत्व जैसे तमाम मुद्दों पर अपनी राय रखी। ठाकरे से पूछा गया कि क्या उनका हिंदुत्व बदला है? इस पर जवाब देते हुए कहा कि हिंदुत्व कोई धोती नहीं जो बदल ली जाए। ये हमारे खून और नसों में है। अपने पिता और दादा के हिंदुत्व में मैं यकीन रखता हूं। बाल ठाकरे कहा करते थे कि मुझे मंदिर में घंटा बजाने वाला हिंदू नहीं, आतंकियों को खदड़ने वाला हिंदू चाहिए। क्या हिंदुत्व का सिर्फ पूजा-अर्चना करना और घंटा बजाना ही मतलब है? किसी भी धर्म की आड़ में राजनीति नहीं करनी चाहिए।

यह भी पढ़े: बिहार: कौन हैं विजय सिन्हा? जो बीजेपी की तरफ से बने पहले विधानसभा स्पीकर, RJD के इस विधायक को दी मात