भारत में भी रोका गया इस कोरोना वैक्सीन का ट्रायल! क्या लॉन्चिंग रह जायेगी देश के लिए सिर्फ सपना?

भारत दुनियाभर में सर्वाधिक कोरोना केसेज के देशों की लिस्ट में दूसरे नंबर पर आ गया है. वहीं उम्मीद की किरण नजर आ रही कोविड 19 वैक्सीन में से एक ‘कोविशील्ड’ का ट्रायल भी रोक दिया गया है.

covishield vaccine trial stopped

कोरोना वायरस से जुड़ी देश में एक के बाद एक बुरी खबरें आ रही हैं. पहली कि भारत दुनियाभर में सर्वाधिक कोरोना केसेज के देशों की लिस्ट में दूसरे नंबर पर आ गया है. वहीं उम्मीद की किरण नजर आ रही कोविड 19 वैक्सीन में से एक ‘कोविशील्ड’ का ट्रायल भी रोक दिया गया है. इसका परीक्षण देश में 17 अलग अलग जगहों पर हो रहा था. गौरतलब है कि इससे पहले ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में चल रहे वैक्सीन के ट्रायल पर भी रोक लगा दी गई थी. आइये जानें इसके पीछे की वजह.

DCGI को नहीं दी ताजा अपडेट

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया के कोविशील्ड का ट्रायल रोके जाने के बाद कंपनी ने बयान जारी करते हुए कहा, ‘हम स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं और अस्त्राजेनेका के ट्रायल शुरू करने तक भारत में ट्रायल रोक रहे हैं. हम ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) के निर्देशों का पालन कर रहे हैं.’ दरअसल DCGI ने सीरम इंस्टिट्यूट को वैक्सीन के ट्रायल के ताजा अपडेट न देने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया था. साथ ही कंपनी को इसका तुरंत जवाब देने को कहा गया था. DCGI के डॉ वीजी सोमानी ने कंपनी को दिए गए नोटिस में कहा है कि अगर कंपनी जवाब नहीं देती तो यह मान लिया जाएगा कि उसके पास सफाई में कहने को कुछ नहीं है और फिर उचित कार्रवाई की जाएगी.

ये भी देखें : Corona Vaccine: जिस ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन से थीं सबसे ज्यादा उम्मीद, उसका ट्रायल क्यों रूका? यहां जानें

सीरम इंस्टीटयूट ने जारी रखा था ट्रायल

दरअसल अस्त्राजेनेका के ट्रायल रुक जाने के बावजूद सीरम इंस्टीटयूट ने ट्रायल जारी रखा था. इस बारे में कंपनी ने एक बयान जारी करते हुए कहा था, ‘ब्रिटेन में चल रहे ट्रायल के बारे में हम कुछ ज्यादा नहीं कह सकते हैं.’ सीरम इंस्टिट्यूट ने कहा कि जहां तक भारत में चल रहे ट्रायल की बात है, यह जारी है और इसमें कोई समस्या सामने नहीं आई है. बता दें कंपनी को भेजे गए नोटिस में DCGI ने कहा है कि SII ने वैक्‍सीन के ‘सामने आए गंभीर प्रतिकूल प्रभावों’ के बारे में अपना एनालिसिस भी उसे नहीं सौंपा.

ये भी देखें : अब इस नई स्टडी ने बढ़ाई टेंशन! बार-बार रूप बदला रहा कोरोना, क्या वैक्सीन भी नहीं होगी असरदार?

अस्‍त्राजेनेका ने इस वजह से रोका 

गौरतलब है कि अस्‍त्राजेनेका कोविड 19 वैक्सीन की वैश्विक दौड़ में सबसे आगे चल रही थी. लेकिन बुधवार को इसका अचानक से ट्रायल रोक दिया गया. इसके पीछे की वजह ट्रायल में भाग लेने वाले एक वालंटियर के बीमार पड़ जाना है. इसी को देखते हुए अंतिम फेस के ट्रायल पर रोक लगाने का फैसला लिया गया था. हालांकि इस बारे में एस्ट्राजेनेका ने एक बयान जारी कर कहा है कि यह एक रूटीन रुकावट है क्योंकि परीक्षण में शामिल शख्स की बीमारी के बारे में अभी तक ज्यादा कुछ पता नहीं चला है. इसकी दोबारा समीक्षा करने के बाद फिर से ट्रायल की शुरुआत की जायेगी.