दुनिया पर मंडराया इस दूसरी महामारी का खतरा, वर्तमान वैक्सीन का नहीं होगा कोई असर

देश कोरोना वायरस महामारी से अभी उबर भी नहीं पाया है कि चीन में अब नया वायरस पाया गया है. इस नए वायरस ने वैज्ञानिकों के माथे पर टेंशन की लकीर खींच दी है.

china new virus

देश कोरोना वायरस महामारी से अभी उबर भी नहीं पाया है कि चीन में अब नया वायरस पाया गया है. इस नए वायरस ने वैज्ञानिकों के माथे पर टेंशन की लकीर खींच दी है. वैज्ञानिकों का दावा है कि ये वायरस आने वाले दिनों में एक गंभीर महामारी का रूप ले सकता है. और जो वैक्सीन बनाई जा रही है वो इस वायरस को रोकने में सक्षम नहीं है. ये वायरस सूअरों में पाया गया है जो इंसान को अपनी चपेट में आसानी से ले सकता है. आइये जानें कितना खतरनाक हो सकता है ये वायरस.

आसानी से फ़ैलने में सक्षम

इस वायरस को G4 EA H1N1 नाम दिया गया है. वैज्ञानिकों ने पाया है कि ये वायरस तेजी से म्युटेट कर सकता है. और एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलने में सक्षम है. कोरोना की वजह से पहले ही दुनिया डरी हुई है और अब इस नए वायरस के आ जाने से लोगों का ये डर दोगुना हो गया है. इसके अलावा इंफ्लुएंजा की यह नई नस्‍ल उन टॉप बीमारियों की सूची में शामिल है जिन पर विशेषज्ञ की नजरें हैं.

ये भी देखें : लौट आया है इबोला वायरस! जानें कोरोना से कितना है अलग ?

इंसानों को कर सकता है संक्रमित

बताया जा रहा है इस वायरस से दुनिया में महामारी का खतरा उत्पन्न हो सकता है. वैज्ञानिकों ने बताया है कि इस फ्लू वायरस में वो सभी लक्षण हैं जिनसे इंसानों को संक्रमित किया जा सकता है. इसलिए इस वायरस की निगरानी करना जरूरी है. साइंटिस्ट ने ये भी बताया कि नए वायरस के चलते इन्सानों में इसके प्रति काफी कम रोग प्रतिरोधक क्षमता होगी या नहीं होगी. ये अपनी कोशिकाओं को कई गुना बढ़ाने की क्षमता रखता है. और फ्लू की वर्तमान वैक्सीन इस वायरस का सामना नहीं कर सकती है. इस बारे में चीन के प्रफेसर किन चो चांग ने कहा कि हम अभी कोरोना संकट में घिरे हुए हैं. लेकिन हम अभी संभावित खतरनाक वायरसों पर से अपनी नजर हटाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं.

ये भी देखें : चीन में कोरोना वायरस 2.0 फैलने का डर! अब रूप बदलकर लोगों को संक्रमित कर रही ये महामारी

2009 में आई थी घातक महामारी

आखिरी बार ये दुनिया 2009 में स्वाइन फ्लू नामक महामारी की चपेट में आई थी. ये फ्लू मेक्सिको से शुरू हुआ था. लेकिन ये कोरोना जितना घातक नहीं था. इस बार कोरोना वायरस के 1 करोड़ मरीज पूरी दुनिया में हो चुके हैं. जिससे मेडिकल एक्सपर्ट्स निपटने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसे में अगर इस दौरान इस नई महामारी ने दस्तक दे दी तो अंजाम काफी भयावह हो सकते हैं.