अमेरिका को चीन से भेजे जा रहे संदिग्ध मेल, क्या ड्रैगन असल मुद्दों से भटकाना चाहता है सुपरपॉवर का ध्यान?

चीन ने अमेरिका को कुछ ऐसा तोहफा दिया है जिसने प्रशासन की नींदे उड़ा दी हैं. यहां तक चीन से ऐसा तोहफा मिलने के बाद अमेरिका के प्रशासन को चेतावनी जारी करनी पड़ गई है.

china gift seeds to america

अमेरिका और चीन के रिश्तों के बीच आजकल गहरा तनाव चल रहा है. कोरोना वायरस, साउथ चाइना सी जैसे कई मुद्दे हैं जिस पर दोनों देश अड़ियल रुख अपनाए हुए हैं. इसी बीच चीन ने अमेरिका को कुछ ऐसा तोहफा दिया है जिसने प्रशासन की नींदे उड़ा दी हैं. यहां तक चीन से ऐसा तोहफा मिलने के बाद अमेरिका के प्रशासन को चेतावनी जारी करनी पड़ गई है. दरअसल चीन अमेरिका को कुछ दिनों से कभी जूलरी तो कभी खिलौनों के नाम से पैकेट मेल कर रहा है. लेकिन अजीब बात ये है कि इन पैकेट्स के अंदर जूलरी या खिलौने नहीं बल्कि एक प्रकार के बीज होते हैं. ये बीज कैसे हैं और किसलिए भेजे गए हैं, इसका प्रशासन को बिलकुल भी अंदाजा नहीं है.

दो महीने से आ रहे पैकेट्स

रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले 2 महीने में अमेरिका के 9 राज्यों में इसी तरह के पैकेट्स पहुंच चुके हैं. पेन्सिल्वेनिया के वेस्टचेस्टर में रहने वाले भारतीय मूल के रवीन्द्रनाथ मिश्रा को भी ऐसे पैकेट्स मिल चुके हैं. उनका कहना है कि सोमवार से अब तक उनके पास ऐसे 4 पैकेट्स आ चुके हैं. इन भी पैकेट्स को ‘चाइना पोस्ट’ के नाम से भेजा जा रहा है. इन बीजों के बारे में कोई जानकारी न होने के चलते इसको लेकर चेतावनी जारी की गई है कि लोग इन्हें बोने की गलती न करें.

ये भी देखें : आखिर क्यों अमेरिका में शव दफनाने की जगह दिया जा रहा दाह संस्कार पर जोर?

अमेरिका ने जारी किया बयान

इस बारे में अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ़ एग्रीकल्चर का कहना है कि चीन से आये इन पैकेट्स के बारे में जांच की जा रही है. जिन लोगों के ये बीज प्राप्त हुए हैं विभाग ने उनसे स्टेट प्लांट रेगुलेटरी ऑफिशल या APHIS स्टेट प्लांट हेल्थ डायरेक्टर से कांटेक्ट करने के लिए कहा है. साथ ही लोगों से पैकेट का मेलिंग लेबल संभालकर रखने को कहा गया है. लोगों से अपील की गई है कि इन अनजान बीजों को बोएं नहीं. विभाग पहले इन पैकेट का टेस्ट करेगा ताकि ये पता लगाया जा सके कि ये बीज अमेरिकी कृषि या पर्यावरण के लिए खतरा तो नहीं हैं.

ये भी देखें : अमेरिका के युद्धाभ्यास से चीनी मीडिया बौखलाई, कहा पहले जैसी नहीं है चीन की सेना

कहीं ध्यान भटकाने की कोशिश तो नहीं?

केंटकी के एग्रीकल्चर कमिश्नर रायन क्वालर्स का इस बारे में कहना है कि ये एक फर्जी खबर है, मजाक है या इंटरनेट स्कैम है इस बारे में भी कोई जानकारी नहीं मिली है. क्या इसके जरिये जैविक आतंकवाद फैलाया जा रहा है या ये चीन की अमेरिका का ध्यान भटकाने की कोई साजिश है? इन सभी सवालों के जवाब पता करने की कोशिश की जा रही है. प्रशासन को आशंका है कि इन बीजों से कोई खतरनाक प्रजाति पैदा हो सकती है. वहीं ओहायो के वाइटहाउस में पुलिस विभाग का कहना है कि हो सकता है कि यह ‘ब्रशिंग’ जैसी कोई मार्केटिंग तकनीक हो.