भारत पर मंडराया सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ का साया, इससे पहले इन तूफानों ने भी दुनिया को डराया

प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ का खतरा रह रह कर भारतवासियों को सता रहा है। अभी कोरोना की चपेट से देश उबरने की कोशिश कर ही रहा है कि सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ (cyclone amphan) से भी भारत में बड़ी तबाही के आसार माने जा रहे हैं।

dangerous cyclones in history

प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ का खतरा रह रह कर भारतवासियों को सता रहा है। अभी कोरोना की चपेट से देश उबरने की कोशिश कर ही रहा है कि सुपर साइक्लोन ‘अम्फान’ (cyclone amphan) से भी भारत में बड़ी तबाही के आसार माने जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये तूफान 300 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से टकराएगा। अगर ऐसा हुआ तो भारत को जनजीवन का भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है। आइये देखें इससे पहले दुनियाभर में किन तूफानों ने भारी तबाही मचाई है।

1970: भोला तूफान

ये तूफान बांग्लादेश से उठा था। 1970 में आए इस तूफान में करीब 3 लाख लोग मारे गए थे। इसमें 280 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएँ चलीं थीं। इसे दुनिया के इतिहास का सबसे घातक तूफान माना जाता है।

1977:  आंध्र प्रदेश

भारत के नजरिए से 1977 में आए इस तूफान ने भारत में भारी तबाही मचाई थी। इसमें 14 हजार लोगों की जानें गयीं थीं। इसमें 250 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएँ चली थी।

ये भी देखें :अब चक्रवाती तूफान अम्फान ने बढ़ाई टेंशन! इन राज्यों की बढ़ सकती है मुसीबत

1991: गोर्की तूफान

बांग्लादेश में ही गोर्की तूफान ने भी दस्तक दी थी। इसमें भी जन जीवन को काफी नुकसान हुआ था। इस तूफान में करीब 1 लाख 38 हज़ार लोग मारे गए थे। साथ ही इस तूफान में हवाओं की स्पीड 240 किलोमीटर प्रति घंटा थी।

​2005: कटरीना तूफान

ये तूफान अगस्त के महीने में अमेरिका में आया था। ये तूफान 8 दिन चला था और इसमे लुसियाना और मिसीसिपी में बड़ी तबाही मचाई थी। इसमें हवाएं 280 किलोमीटर की रफ्तार से चली थी। इसमें 1883 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी। इसमें आर्थिक नुकसान करीब 163 बिलियन डॉलर्स का हुआ था।

ये भी देखें :अब कोरोना से जुड़ी इस रहस्मय बीमारी ने दी भारत में दस्तक, इस शहर में 8 साल के बच्चे में मिले लक्षण

2008 : नर्गिस तूफान

ये तूफान म्यांमार में आया था। नर्गिस तूफान में करीब 1 लाख 38 हज़ार लोग मौत की नींद सो गए थे। इसमें हवाएँ 215 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चली थीं।