जेपी नड्डा के सवालों पर बोले राहुल- वो मेरे प्रोफेसर हैं, जो उन्हें जवाब दूं? सरकार पर किए जमकर कई बड़े प्रहार

rahul on jp nadda questions

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के बीच जुबानी जंग तेज हो रही हैं। नए कृषि कानून के खिलाफ बीते डेढ़ महीनों से भी ज्यादा वक्त से किसान सड़कों पर है। किसानों के इस प्रदर्शन को लेकर कांग्रेस पार्टी लगातार बीजेपी पर हमला बोल रही है। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी भी बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी पर लगातार हमलावर है।

जेपी नड्डा के सवालों पर ये बोले राहुल 

मंगलवार को राहुल गांधी ने ‘खेती का खून’ बुकलेट जारी की। इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने राहुल गांधी से कुछ सवाल किए थे। जिस पर जवाब देते हुए राहुल नड्डा और साथ साथ बीजेपी पर जमकर बरसे। जेपी नड्डा के सवालों पर राहुल बोलें कि वो कौन हैं? वो मेरे प्रोफेसर हैं, जो मैं उनको जवाब दूं?

यह भी पढ़े: विवादित बयान: ‘काम के टाइम राहुल, तेजस्वी और चिराग हनीमून पर चले जाते हैं’, जानिए किस नेता ने कहा ये?

जेपी नड्डा ने राहुल पर किसानों को भ्रमित करने और बरगलाने का आरोप लगाया था। जिसके जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि उनके दिल में जो कुछ भी आता हैं, वो मेरे बारे में बोलते हैं। किसान जानते हैं कि राहुल गांधी कौन है? क्या करता है? ये हिंदुस्तान का हर किसान जानता हैं।

इस दौरान राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि मेरा कैरेक्टर है। मैं ना तो नरेंद्र मोदी से डरता हूं और ना ही इन लोगों से। मुझे फर्क नहीं पड़ता। मैं एकदम साफ सुधरा आदमी हूं। ये लोग मुझे छू भी नहीं सके। हां, गोली मार सकते हैं, वो अलग बात है। लेकिन छू नहीं सकते।

यह भी पढ़े: बराक ओबामा ने राहुल गांधी पर कर दी ये बड़ी टिप्पणी, सोशल मीडिया पर ट्रेंड होने लगा #माफी_मांग_ओबामा

राहुल गांधी ने आगे कहा कि किसानों को पता हैं कि भट्टा परसौल में क्या जेपी नड्डा नहीं खड़े थे। भूमि अधिग्रहण कानून में भी नड्डा नहीं खड़े थे, मोदी जी नहीं खड़े थे। जब किसानों की जमीन की बात आती हैं, तो कांग्रेस वहां खड़ी रहती हैं। किसानों का कर्ज माफ करने की बात होती है, तो कांग्रेस खड़ी होती है।

किसान आंदोलन पर सरकार को घेरा

केंद्र पर तीखा हमला बोलते हुए राहुल ने कहा कि सरकार किसानों को भटकाने की कोशिश में हैं। किसानों से बात करने के लिए कह रही है। 9 बार की बात हो चुकी, सरकार मामले के कोर्ट में घसीट रही है। ये तीन कानून एक प्रक्रिया है, ये यहीं पर नहीं रूकने वाले। इनका लक्ष्य हिंदुस्तान के किसानों को खत्म कर देना और पूरे कृषि सिस्टम को अपने तीन-चार दोस्तों को देने का है।

यह भी पढ़े: ‘…तो भागवत को भी घोषित कर देंगे आतंकी’, किसान आंदोलन को लेकर फ्रंटफुट पर आए राहुल-प्रियंका, मोदी सरकार को यूं घेरा

चीन के मुद्दे पर भी साधा निशाना

चीन के मसले पर सरकार को घेरते हुए राहुल गांधी ने कहा कि चीन भारत की कमजोरी देख रहा है। चीन के पास स्ट्रेटजिक विजन है, जो हिंदुस्तान के पास नहीं। चीन ने भारत को डोकलाम और लद्दाख में टेस्ट किया। चीन को अगर साफ संदेश नहीं दिया जाता, तो वो इसका फायदा उठाएगा।

जेपी नड्डा ने पूछे थे ये सवाल

बता दें कि इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी से कुछ सवाल पूछे थे। एक के बाद एक कई ट्वीट कर नड्डा ने पूछा था कि राहुल गांधी चीन पर झूठ बोलना कब बंद करेंगे? क्या वो इस बात से इनकार करेंगे कि हजारों किलोमीटर जमीन, यहां तक वो भूमि भी जिसमें अरुणाचल प्रदेश में गांव बताने की बात कही जा रही है, उसे खुद पंडित नेहरू ने चीन को तोहफे में दे दी थी? क्यों कांग्रेस ने बार-बार चीन के आगे आत्मसमर्पण किया?

यह भी पढ़े: चीन के अरुणाचल प्रदेश में गांव बसाने के लिए कांग्रेस जिम्मेदार? जानिए बीजेपी सांसद ने किए क्या बड़े बड़े दावे 

नड्डा ने चीन के अलावा कोरोना और किसानों के मुद्दे को लेकर भी राहुल से सवाल पूछे थे। उन्होनें पूछा कि वैक्सीन बनाने पर उन्होनें हमारे देश के वैज्ञानिकों को बधाई क्यों नहीं दी? साथ ही बीजेपी अध्यक्ष ने पूछा था कि कांग्रेस कब भारत के किसानों को भड़काना और गुमराह करना बंद करेगी? नड्डा ने कहा था कि उन्हें उम्मीद हैं कि राहुल इन सवालों का जवाब प्रेस कॉन्फ्रेंस में देंगे।