‘रविवार रात 9 बजे जलाएं घर के बाहर दीया’, जानिए वीडियो संदेश में पीएम मोदी ने क्या-क्या कहा?

देश इस समय कोरोना वायरस जैसी वैश्विक महामारी के संकट से जुझ रहा है. कोरोना से लड़ने के लिए 25 मार्च से लेकर 14 अप्रैल तक 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया गया है. इसी बीच शुक्रवार सुबह 9 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को वीडियो के जरिए संदेश जारी किया.

5 अप्रैल को पीएम मोदी ने मांगे 9 मिनट

इस दौरान पीएम मोदी ने 5 अप्रैल रात 9 बजे देशवासियों के 9 मिनट मांगे. प्रधानमंत्री ने रविवार रात 9 बजे अपने घरों की सभी लाइटें बंद करके, लोगों से अपने घरों के बाहर दरवाजे पर दीप जलाने की अपील की. पीएम मोदी ने कहा- ‘कोरोना महामारी से फैले अंधकार के बीच हमें निरंतर प्रकाश की ओर जाना है. इस अंधकार में कोरोना संकट को पराजित करने के लिए प्रकाश के तेज को चारों दिशाओं में फैलाना है.’

यह भी पढ़े: कोरोना से जुड़ी सरकार की इस ऐप को तुरंत करें अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड, संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने की मिलेगी जानकारी

प्रधानमंत्री ने कहा- ‘इस रविवार 5 अप्रैल को हम सबको मिलकर कोरोना के संकट के अंधकार को चुनौती देने है, उसे प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है. 5 अप्रैल को हमें 130 करोड़ के महासंकल्प को नई ऊंचाईयों पर ले जाना है. रविवार रात 9 बजे मैं आप सबके 9 मिनट चाहता हूं. इस दौरान घर की सभी लाइटें बंद करकें दरवाजे या फिर बालकनी में खड़े रहकर 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट को जलाएं.’

‘एकजुटता का देना हैं संदेश’

पीएम मोदी ने कहा- ‘लॉकडाउन की वजह से देश के करोड़ों लोग घरों में है. तब उन्हें ये लग रहा है कि वो अकेले क्या करें. कुछ लोग सोच रहे होगे कि वो अकेले ये लड़ाई कैसे करेंगे. ये सवाल भी मन में आते होंगे कि कितने दिन ऐसे अकेले कांटने पड़ेंगे. ये लॉकडाउन का समय है, हम अपने अपने घरों में जरूर है लेकिन हम में से कोई भी अकेला नहीं है. 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति हर किसी के साथ है.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- ‘जब हर व्यक्ति एक-एक दीया जलाएगा तो चारों तरफ प्रकाश की महाशक्ति का एहसास होगा. एक ही मकसद से हम लड़ रहे हैं ये उजागर होगा. उस प्रकाश में हम संकल्प करें कि हम अकेले नहीं है.’

यह भी पढ़े: अरुणाचल के CM ने बढ़ाई कंफ्यूज़न, पीएम मोदी से मीटिंग के बाद लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर शेयर की ये अहम जानकारी और फिर…

‘लक्ष्मण रेखा नहीं करनी पार’

साथ ही पीएम मोदी ने इस दौरान लक्ष्मण रेखा को पार ना करने की भी अपील की. पीएम ने कहा- ‘इस आयोजन के समय किसी को भी कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है. रास्तों में, गली में या फिर मोहल्ले में नहीं जाना है. अपने घर के दरवाजे और बालकनी से ही इसे करना है. सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा को कभी भी लांघना नहीं है. कोरोना की चेन तोड़ने का यही रामबाण इलाज है. ये हमें संकट की इस घड़ी से लड़ने की ताकत देगा और जीतने का आत्मविश्वास भी.’

इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू वाले दिन एकजुटता का संदेश देने के लिए लोगों की सराहना भी की. पीएम ने कहा- ‘जिस प्रकार 22 मार्च कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले हर किसी का धन्यवाद किया, वो सभी देशों के लिए मिसाल बन गया. कई देश इसको दोहरा रहे हैं. जनता कर्फ्यू हो, गंटी बजाने, थाली बजाने का कार्यक्रम में इन्होनें इस समय में देश की सामूहिक शक्ति का एहसास कराया. ये दिखाया कि देश एक होकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ सकता है.’

यह भी पढ़े: COVID-19: इस देश के राष्ट्रपति ने दी चेतावनी, जो लॉकडाउन तोड़े उसे गोली मार दो