5 अगस्त के दिन अयोध्या में अपना 29 साल पुराना वादा पूरा करने आयेंगे पीएम!

5 अगस्त को पीएम मोदी अयोध्या में भव्य राम मंदिर के भूमि पूजन समारोह में हिस्सा लेने शरीक हो रहे हैं. इस एतिहासिक क्षण के नजदीक आते आते पीएम की ठीक 29 साल पहले यानि 1991 में कही एक बात याद रही है. जो आने वाले दिनों में सच हो जायेगी.

pm modi ayodhya

5 अगस्त को पीएम मोदी अयोध्या में भव्य राम मंदिर के भूमि पूजन समारोह में हिस्सा लेने शरीक हो रहे हैं. इस एतिहासिक क्षण के नजदीक आते आते पीएम की ठीक 29 साल पहले यानि 1991 में कही एक बात याद रही है. जो आने वाले दिनों में सच हो जायेगी. दरअसल 1991 में राम मंदिर आंदोलन के दौरान पीएम ने बड़े ही आत्मविश्वास के साथ कहा था कि जिस दिन राम मंदिर का निर्माण शुरू होगा, मैं वापिस आऊंगा. इसी कड़ी में बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी और मोदी की सोशल मीडिया पर उस दौरान की एक तस्वीर भी वायरल हो रही है. इस वायरल तस्वीर को खींचने वाले फोटोग्राफर महेंद्र त्रिपाठी के मुताबिक ये तस्वीर अप्रैल 1991 की है जब ये दोनों नेता अयोध्या के विवादित क्षेत्र का दौरा करने आये थे. उसी दौरान पीएम ने ये बात कही थी. और आगामी 5 अगस्त की तारीख को पीएम का ये वादा पूरा होने जा रहा है.

निकाली गई थी 10 हजार किलोमीटर लंबी रथयात्रा

वो 1990 के शुरुआती दिनों का दौर था, उस दौरान लाल कृष्ण आडवाणी ने गुजरात के सोमनाथ से उत्तर प्रदेश के अयोध्या तक पद यात्रा का प्रस्ताव रखा. लेकिन पद यात्रा की जगह पार्टी के तत्कालीन महासचिव प्रमोद महाजन ने रथ यात्रा का आडवाणी को सुझाव दिया. इसको लेकर 12 सितंबर को दिल्ली के 11 अशोक रोड पर स्थित बीजेपी मुख्यालय में पार्टी के महासचिवों की मीटिंग बुलाई गई जिसमें सबने रथ यात्रा पर सहमति जता दी. मीटिंग के बाद पार्टी ने प्रेस कांफ्रेंस बुलाई और 25 सितंबर से सोमनाथ से अयोध्या तक 10 हजार किमी लंबी यात्रा का एलान कर दिया. इसके लिए एक टोयोटा ट्रक को भगवा रंग के एक रथ में तब्दील किया गया. जिसके बाद पूजा पाठ के साथ सोमनाथ मंदिर से ये यात्रा शुरू कर दी गई. उस दिन ईद का त्यौहार था जिस वजह से अवकाश था. लेकिन इसले बावजूद भी इस रथ यात्रा में भारी भीड़ जुटी थी.

ये भी देखें : आगरा: भूमि पूजन के लिए गुरुद्वारे गुरु के ताल समेत धार्मिक स्थलों की मिट्टी भेजी जाएगी अयोध्या, VHP कर रही इकट्ठा

काफी उत्साहित थे लोग

इस रथ यात्रा के दौरान लोग इतने उत्साहित थे कि महिलाएं अपने हाथों से सोने के कंगन उतार कर दान में देने लगी थीं. वहीं पुरुष आडवाणी को तलवार, छड़ी जैसे अन्य सामान भेंट करने लगे थे. आडवाणी के साथ इस रथ यात्रा में प्रमोद महाजन और गुजरात बीजेपी के तत्कालीन सांगठनिक सचिव नरेन्द्र मोदी अगल बगल तैनात थे. अब उसी के करीब 29 साल बाद फिर पीएम मोदी अयोध्या की भूमि पर कदम रखने जा रहे हैं. हालांकि लोकसभा चुनाव का प्रचार करने 2009, 2014 और फिर 2019 में पीएम अगल बगल के क्षेत्र गए थे. लेकिन अयोध्या नहीं आये.

ये भी देखें : भूमि पूजन के लिए सज-धज रही है रामलला की नगरी अयोध्या, जानिए कुछ खास बातें

मोदी के लिए 5 अगस्त काफी बड़ा दिन

इस लिहाज से आने वाला 5 अगस्त का दिन मोदी के लिए काफी बड़ा माना जा रहा है. इस दिन अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमिपूजन के समारोह का उद्घाटन भी पीएम के हाथों ही होगा. इस मंदिर के 2023 तक पूरा हो जाने की उम्मीद है. जिसके बाद ये भी संभव है कि 2024 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले राम मंदिर उद्घाटन का भव्य समारोह यहां आयोजित किया जाए.