अब Whatsapp के जरिए मिलेगी नौकरी की जानकारी…बस इस नंबर पर भेजना होगा ये मैसेज, जान लें पूरा प्रोसेस

labourers job whatsapp

सरकार के साइंस एंड टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट  Whatsapp पर एक खास सुविधा की शुरुआत की है। जिसके तहत अब मजदूरों को उनके गृह राज्य में नौकरी से जुड़ी जानकारी केवल एक Whatsapp मैसेज के जरिए मिल जाएगी। Whatsapp पर एक नंबर पर ‘Hi’ का मैसेज भेजते ही अपने गृह राज्य में स्किल के मुताबिक नौकरी की जानकारी मिलेगी। ये जानकारी पूर्णत: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस चैटबॉट के जरिए दी जाएगी।

तैयार किया ये पोर्टल

साइंस एंड टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट की टेक्नोलॉजी इनफॉर्मेशन फोरकास्ट और एव्युलूशन काउंसिल (TIFAC) ने श्रम शक्ति मंच (SAKSHAM) नाम का एक पोर्टल तैयार किया। जिसमें उस क्षेत्र के मजदूरों को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों से Whatsapp के लिए जोड़ने का काम होगा। जिससे लोगों को आसानी से नौकरी और अवसरों की जानकारी मिल पाएगी।

यह भी पढ़े: इस तरह से 7 दिन में खुद गायब हो जाएंगे आपके Whatsapp मैसेज, जान लें इस नए फीचर के बारे में सबकुछ

इस नंबर पर भेजना होगा Hi का मैसेज

सरकार द्वारा शुरू की गई इस सुविधा का लाभ उठाने के लए एक Whatsapp नंबर 7208635370 पर Hi का मैसेज लिखकर भेजना पड़ेगा। जिसके बाद चैटबॉट में मैसेज भेजने वाले के काम, अनुभव और स्किल के बारे में जानकारी मांगी जाएगी। जो जानकारी हासिल होगी, उसके मुताबिक ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम शख्स को उसके आसपास जो भी नौकरी उपलब्ध होगी, उसके बारे में बताया जाएगा।

ऐसे लोग जिनके पास स्मार्टफोन नहीं हैं, वो भी इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। इसके लिए उन्हें एक लैंड लाइन नंबर 022-67380800 पर मिस कॉल करनी होगी। पोर्टल का इस्तेमाल इलेक्ट्रीशियन, प्लंबर, कृषि श्रमिकों और समेत अन्य लोग कर सकते हैं।

यह भी पढ़े: WhatsApp में कैसे जानें आप हैं ब्लॉक, इन आसान ट्रिक्स से लगायें पता

इस पोर्टल में देशभर के MSMEs को उस क्षेत्र के नक्शे के माध्यम से जोड़ा जाएगा। ये चैटबॉट अभी केवल दो भाषाओं हिंदी और अग्रेंजी में ही उपलब्ध होगा। इसको विस्तार करने का काम चल रहा है। जल्द ही ये दूसरी भाषाओं में भी उपलब्ध होगा।

‘मजदूरों को गृह राज्य में काम दिलाना मकसद’

TIFAC के कार्यकारी निदेशक प्रदीप श्रीवास्तव ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संकट के दौरान इस प्लेटफॉर्म को तैयार करने का विचार आया। उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते लगे लॉकडाउन की वजह से लाखों प्रवासी मजदूरों को अपने घर लौटना पड़ा। इस काफी लोगों की नौकरी चली गई। मजदूरों को उनके घर के आसपास गृह राज्य में नौकरी दिलाने के मकसद से ये प्लेटफॉर्म लाया गया है।

यह भी पढ़े: अब बिना WhatsApp खोले जान सकेंगे कौन-कौन हैं ऑनलाइन, यहां जानें धांसू ट्रिक