नीतीश कुमार का सनकी फैन, जो उनके सीएम बनने पर हर बार काट लेता है अपनी एक उंगली, जानें पूरा मामला…

nitish fan

बिहार चुनाव तो खत्म हो गया, लेकिन उससे जुड़ी सुर्खियों का अंत नहीं हो रहा है। बिहार के जहानाबाद जिला में रहने वाले एक शख्स को लेकर जो चर्चाएं फैली हैं उसे अगर आप जानेंगे तो आप भी हैरानी रह जाएंगे। बिहार में नई सरकार का गठन ज्यादातर लोगों के लिए एक उत्सव की तरह ही है। जिसे लोग मंदिरों में पूजाकर या फिर पटाखे फोड़कर या फिर मिठाइयां बांटकर मना रहे हैं। लेकिन बिहार में एक ऐसा शख्स भी है जो नीतीश कुमार के सीएम बनने की खुशी का इजहार बेहद ही अलग तरीके से कर रहा है।

जहानाबाद के घोसी थाना इलाके के वैना गांव में रहने वाला ये अनिल शर्मा उर्फ अलीबाबा नाम का शख्स नीतीश कुमार का बड़ा फैन है। 45 साल के शख्स अनिल, नीतीश कुमार की जीत का जश्न कुछ इस तरह से मनाता है कि उनकी हर जीत पर वो अपनी उंगली काट लेता है। उसने इस बार भी बिहार में नीतीश कुमार की सरकार बनने पर खुशी जाहिर की है और इस सनकी फैन ने अपने हाथ की उंगली काट ली। पिछले तीन बार से वो नीतीश के सीएम बनने पर उंगली काट कर ही अपनी खुशी जाहिर कर रहा है।

यह भी पढ़े: क्यों मेवालाल चौधरी ने कुछ ही घंटों में बिहार के शिक्षा मंत्री के पद से दे दिया इस्तीफा? जानें पूरा मामला

2005 में अनिल ने सबसे पहले अपनी उंगली काटी और गौरेया बाबा को चढ़ाई। इसके बाद से ये सिलसिला अब तक चला आ रहा है। अपने हाथ की दूसरी उंगली उसने 2010 में नीतीश की जीत पर काट दी थी। नीतीश कुमार जब 2015 में सीएम की कुर्सी पर बैठे तो उसने अपनी तीसरी उंगली काट दी और गौरैया बाबा को चढ़ा दिया। इस बार भी उसने यही किया।

उंगली काटे जाने को लेकर उसने मीडिया वालों से कहा कि नीतीश कुमार की सरकार इस बार अगर नहीं बनती तो वो अपनी गर्दन ही काट लेता। उसने बताया कि जब नीतीश कुमार को एग्जिट पोल में हारते दिखाया जा रहा था तो बहुत गमगीन हुआ और खाना पीना भी 4 दिनों तक छोड़ दिया था। अनिल के मुताबिक वो नीतीश की जीत की खुशी में अपनी उंगली काटता है।

यह भी पढ़े: नीतीश के पास गृह विभाग, इनको सौंपे गए सुशील मोदी के मंत्रालय…नीतीश कैबिनेट में विभागों के बंटवारे की जाने बड़ी बातें 

उंगली काटे जाने के बारे में सुनकर उसके घर के पास गांववाले जमा हो गए। अनिल ने कहा कि जब तक उससे सीएम नहीं मिलेंगे, तब तक वो इलाज भी नहीं कराएगा। गांववालों के मुताबिक अनिल कहीं बाहर काम करता था। बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा हो जाने के बाद वो गांव आया और अपनी संपत्ति बेची फिर इसके बाद नीतीश कुमार का प्रचार करने लगा।

यह भी पढ़े: आंकड़ों से समझें, कैसे पिछले 15 सालों में इस बार JDU का प्रदर्शन सबसे खराब? फिर भी नीतीश ही बनेंगे मुख्यमंत्री?