जया जेटली को पहले सजा फिर राहत! जानें वो मामला जिसकी आंच में जॉर्ज फ़र्नांडिस भी जले

पूर्व केंद्रीय मंत्री जॉर्ज फ़र्नांडिस की करीबी कही जाने वाली समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जेटली और अन्य 2 लोगों को भ्रष्टाचार के मामले में दिल्ली की एक अदालत ने चार साल कारावास की सजा सुनाई थी.

tahlka case

पूर्व केंद्रीय मंत्री जॉर्ज फ़र्नांडिस की करीबी कही जाने वाली समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जेटली और अन्य 2 लोगों को भ्रष्टाचार के मामले में दिल्ली की एक अदालत ने चार साल कारावास की सजा सुनाई थी. लेकिन इस सजा के खिलाफ जया दिल्ली हाई कोर्ट पहुंच गई. जिसके बाद इस सजा को सस्पेंड कर दिया गया. आज निचली अदालत ने तीनों दोषियों को सरेंडर करने को कहा था लेकिन जया को हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. बता दें जया पर थर्मल इमेज खरीद में भ्रष्टाचार का आरोप था. इसका खुलासा साल 2001 में हुआ था. इस पूरे मामले में तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फ़र्नांडिस भी फंसे थे. जिसके बाद से उन्हें अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था. आइये जानते हैं पूरा मामला.

कैसे सामने आया मामला ?

दरअसल एक स्टिंग ऑपरेशन के जरिये एक न्यूज पोर्टल ने इस पूरे मामले का खुलासा किया था. इस ऑपरेशन में एक पत्रकार ने सेना को थर्मल इमेजर की आपूर्ति करने के लिए संदिग्ध कंपनी के प्रतिनिधि के रूप लिया था. जिससे अभियुक्तों ने रिश्वत ली थी. ये बैठक 25 दिसंबर 2000 को होटल के एक कमरे में हुई थी. इस बैठक में सुरेन्द्र कुमार सुरेखा और रिटायर्ड मेजर जनरल एस. पी. मुरगई ने काल्पनिक कंपनी वेस्टेंड इंटरनेशनल के प्रतिनिधि मैथ्यू सैम्युअल को रक्षा मंत्रालय से उसकी कंपनी द्वारा निर्मित उत्पाद के मूल्यांकन के लिए पत्र जारी करवाने का भरोसा दिया था.

ये भी देखें : उत्तराखंड जिला प्रशासन की चिट्ठी पर नेपाल ने उम्मीद के मुताबिक काम किया है, जानें पूरा मामला

इतने रुपये की ली थी घूस

दरअसल जया जेटली पर आरोप है कि उन्होंने काल्पनिक कंपनी वेस्टेड इंटरनेशनल के प्रतिनिधि मैथ्यू सैम्युअल से 2 लाख रुपये की रिश्वत ली. जबकि मुरगई को 20 हजार रुपये मिले थे. इसमें तीनों आरोपियों के साथ सुरेंद्र कुमार सुरेखा आपराधिक साजिश के मामले में पक्षकार थे, लेकिन सुरेखा बाद में सरकारी गवाह बन गए. जिसके बाद विपक्ष तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फ़र्नांडिस के इस्तीफे की मांग करने लगा था. काफी दबाव के बाद आखिरकार जॉर्ज को झुकना पड़ा और उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया. इसके साथ ही समता पार्टी की अध्यक्ष जया जेटली को भी इस्तीफ़ा देना पड़ा था.

ये भी देखें : कानपुर: 22 जून को किया अगवा, 30 लाख फिरौती लेने के बाद लैब असिस्टेंट की कर दी हत्या, जानिए पूरा मामला?

फर्नांडिस के ऐसे थे जया से संबंध

दरअसल जॉर्ज फर्नांडिस की मुलाकात लैला कबीर से फ्लाइट में हुई थी और जॉर्ज उनकी बौद्धिक क्षमता से काफी प्रभावित हुए थे. लैला पूर्व केंद्रीय मंत्री हुमायूं कबीर की बेटी थीं. दोनों ने बाद में शादी कर ली और उनके दो बेटे भी हैं. हालांकि, बाद में फर्नांडिस के संबंध जया जेटली से भी हुए, जिस पर काफी विवाद भी था. दरअसल, उसी दौर में जया के पति अशोक जेटली फर्नांजिस के विशेष सहायक थे. जया का फर्नांडिस से मिलना-जुलना हुआ और फिर वे करीबी दोस्त बन गए. 2010 में जॉर्ज बीमार हो गए और पत्नी लैला उनके पास लौट आई. जॉर्ज को अल्जाइमर की बीमारी थी. जया फर्नांडिस से मिलना चाहती थीं लेकिन लैला ने एक समय उन्हें मिलने से रोक दिया. उनसे मिलने की अनुमति मांगने के लिए 2012 में जया ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. 29 जनवरी 2019 को फर्नांडिस का निधन हो गया था.