भारत-चीन सीमा विवाद पर भारत को अमेरिका का समर्थन, चीन बौखलाया

भारत-चीन सीमा विवाद पर अब अमेरिका भारत के समर्थन में उतर आया है। अमेरिका को भारत का सपोर्ट मिलते देख चीन बौखला गया है। चीन विदेश मंत्रालय ने एक बयान में अमेरिका के सपोर्ट को बकवास बताया है।

china angry on america supporting india

भारत-चीन सीमा विवाद पर अब अमेरिका भारत के समर्थन में उतर आया है। अमेरिका को भारत का सपोर्ट मिलते देख चीन बौखला गया है। चीन विदेश मंत्रालय ने एक बयान में अमेरिका के सपोर्ट को बकवास बताया है। चीन का कहना है कि सीमा विवाद में अमेरिका का कोई काम नहीं हैं। इस पर भारत और चीन के बीच राजनयिक चैनलों के माध्यम से परामर्श चल रहा है।

चीन ने स्थिति की स्पष्ट

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लीजियन ने एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि चीन ने सीमा विवाद पर अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है। उन्होने इस पर अमेरिकी राजनयिक की टिप्पणी को बकवास बताया है। झाओ ने कहा कि चीन की बॉर्डर फोर्स देश की क्षेत्रीय संप्रभुता और सुरक्षा को मजबूती से रखती है और भारतीय पक्ष के सीमा के उल्लंघन की गतिविधियों से मजबूती से निपटती है।

ये भी देखें : चीन में कोरोना वायरस 2.0 फैलने का डर! अब रूप बदलकर लोगों को संक्रमित कर रही ये महामारी

‘हमारे साथ मिलकर काम करे भारत’

प्रवक्ता ने कहा कि हम भारतीय पक्ष से आग्रह करते हैं कि वह हमारे साथ मिलकर काम करे, हमारे नेतृत्व की महत्वपूर्ण सहमति का पालन करे, हस्ताक्षर किए गए समझौतों का पालन करे। उन्होने कहा कि भारत को एकतरफा कार्रवाई से बचना चाहिए साथ ही स्थिति को जटिल भी नहीं बनाने की कोशिश करनी चाहिए।

ये भी देखें : चीन को झटके पर झटका! अब ये फुटवियर कम्पनी कारोबार समेटकर आएगी भारत, हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार

मई में आर पार हो चुके हैं भारत-चीनी सैनिक

5 मई को लद्दाख के पेंगोंग झील क्षेत्र में भारत और चीन के लगभग 250 सैनिक में झड़प हो गयी थी। इस दौरान दोनों ओर से पत्थरबाजी होने लगी थी जिसकी वजह से दोनों देश के सैनिक घायल हो गए थे। इसी के जैसी घटना 9 मई को सिक्किम सेक्टर में नाथूला में हाथापाई हो गयी थी। इस हाथापाई में 150 सैनिक शामिल थे।  इस घटना में दोनों पक्षों के कम से कम 10 सैनिक घायल हुए थे। वर्ष 2017 में डोकलाम में भारत और चीन के सैनिकों के बीच 73 दिन तक गतिरोध चला था जिससे दोनों परमाणु अस्त्र संपन्न देशों के बीच युद्ध की आशंका उत्पन्न हो गई थी।