पीएम के राहत पैकेज के ऐलान पर भड़की ममता बनर्जी, कहा- नुकसान 1 लाख करोड़ का, मिले 1 हजार करोड़

Amphan cyclone West Bengal,Mamata Banerjee targets modi government on relief fund

कोरोना संकट महामारी के बीच अम्फान तूफान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा को बूरी तरह से तबाह कर दिया है। शुक्रवार को पीएम मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के साथ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा किया। हवाई दौरे के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल के लिए 1 हजार करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया। पीएम मोदी के इस ऐलान पर प्रदेश की सीएम ममता बनर्जी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने केंद्र सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि इस तबाही में नुकसान 1 लाख करोड़ का हुआ है पैकेज सिर्फ 1 हजार करोड़ का दिया जा रहा है।

इसे भी पढ़े- कोरोना संकट के बीच महाराष्ट्र सरकार के विरोध में उतरे बीजेपी नेता, शुरु किया ‘महाराष्ट्र बचाओ आंदोलन’

बंगाल का 56 हजार करोड़ केंद्र पर बकाया

सीएम बनर्जी ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने एक हजार करोड़ के पैकेज का ऐलान किया है, लेकिन इससे जुड़ी कोई भी जानकारी नहीं दी है। यह पैसा कब मिलेगा या यह अग्रिम धनराशि है। अम्फान तूफान के कारण 1 लाख करोड़ का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि 56 हजार करोड़ रुपया तो हमारा ही केंद्र पर बकाया है।

दरअसल, प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद पीएम मोदी ने कहा था कि ‘अम्फान चक्रवात से निपटने के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने मिलकर भरसक प्रयास किया, लेकिन उसके बावजूद करीब 80 लोगों का जीवन नहीं बचा पाएं। इसका हम सभी को दुख है और जिन परिवारों ने अपना स्वजन खोया है उनके प्रति केंद्र और राज्य सरकार की संवेदनाएं है।’

इसे भी पढ़े- अगले 5 सालों में सभी कारों, बसों और ट्रकों का नंबर-1 विनिर्माण केंद्र होगा भारत- केंद्रीय मंत्री

मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हजार

पीएम ने हवाई सर्वेक्षण के बाद ममता बनर्जी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए इस राहत पैकेज का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि लोगों को हरसंभव मदद प्रदान करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार मिलकर काम कर रहे हैं। अभी राज्य सरकार को तत्काल कठिनाई न हो इसके लिए 1000 करोड़ रुपये भारत सरकार की तरफ से व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये की सहायता दी जाएगी।

इसे भी पढ़े- तेलंगाना के CM का अधिकारियों को निर्देश, करें बस और ट्रेन की व्यवस्था, कोई भी मजदूर पैदल चलने पर ना हो मजबूर