25 मई से हवाई सेवा पर महाराष्ट्र सरकार ने जताई असमर्थता, केंद्र को बताए कई कारण

Maharashtra Government, Domestic flights will be restarted by 25 May

देश में लॉकडाउन का चौथा चरण लागू है। लॉकडाउन के इस चरण में शर्तों के साथ कुछ रियायते दी गई है। प्रवासी मजदूरों को उनके गृहप्रदेश पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार के आदेशानुसार श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही है। बीते दिनों केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल 1 जून से रोजाना 200 ट्रेनें चलाने की बात कह चुके हैं। वहीं, केंद्रीय उड्यन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने 25 मई से घरेलू उड़ानों की सेवा बहाल करने का ऐलान किया है। खबरों के अनुसार सभी तैयारियां पूरी हो गई है और 25 मई से घेरलू उड़ाने शुरु कर दी जाएगी। इसी बीच महाराष्ट्र ने केंद्र के इस फैसले पर असमर्थता जता दी है।

इसे भी पढ़े- योगी सरकार पर बरसी प्रियंका गांधी, कहा – सेवा हमारी मूल में है और डरना हमारी फितरत नहीं

रेड जोन में मुंबई और पुणे

महाराष्ट्र सरकार का कहना है कि वह 25 मई से विमान सेवा नहीं शुरु कर सकती। प्रदेश सरकार का कहना है कि महाराष्ट्र के अहम शहर मुंबई और पुणे रेड जोन में और इन शहरों में ट्रैफिक और लोगों की आवाजाही पर पूरी तरह से पाबंदी है। ऐसे में विमान सेवा शुरु नहीं कर सकते। महाराष्ट्र सरकार ने केद्र को मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड का हवाला देते हुए कहा कि MIAL हवाईअड्डे पर काम फिर से शुरु करने, कर्मचारियों की उपलब्धता, उनकी स्वास्थ्य स्थिति और उनकी फिटनेस के स्तर की जांच करने की आवश्यता पर काम किया है या नहीं।

इसे भी पढ़े- दिल्ली सरकार ने विज्ञापन में सिक्किम को बताया भारत से बाहर, कांग्रेस ने कहा – प्रचार में व्यस्त थे केजरीवाल

राज्य सरकार का कहना है कि एमआईएएल ने ये भी साफ नहीं किया कि उसके स्टाफ कंटेनमेंट जोन से आएंगे या नहीं। महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि 27 हजार 500 यात्री हर रोज यात्रा करेंगे, ऐसे में उनके लिए एयरपोर्ट और एयरलाइन में ज्यादा स्टाफ की जरुरत होगी, जो बड़ी चुनौती है। ये स्टाफ एयरपोर्ट कैसे आएंगे और कैसे जाएंगे, क्योंकि पब्लिक ट्रांसपोर्ट और टैक्सियों पर तो पाबंदी लगी है। यात्रियों को भी असुविधा होगी।

मुंबई में 25 हजार से ज्यादा मामले

बता दें, महाराष्ट्र में कोरोना के मामले देश में सर्वाधिक है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार महाराष्ट्र में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 47190 पहुंच गई है। उनमें से 13404 लोगों का सफल इलाज किया जा चुका है जबकि 1577 लोगों के मौत की पुष्टि हुई है। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा मामले मुंबई और पुणे से सामने आए हैं। मुंबई में मामले 25 हजार के पार हो चुके हैं। राज्य सरकार हालात पर काबू पाने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है और इस मुश्किल घड़ी में किसी भी तरह का कोई चूक करना नहीं चाहती।

इसे भी पढ़े- चीन और पाकिस्तान मिलकर रच रहे हैं भारत के खिलाफ बड़ी साजिश?  मिले ये चौका देने वाले संकेत