Corona Vaccine जल्द मिलने की उम्मीद को लगा बड़ा झटका, इस कंपनी ने रोका ट्रायल, जानिए कारण?

johnson & johnson vaccine

चीन के वुहान शहर से निकला कोरोना वायरस दुनियाभर में कहर बरपा रहा है। वायरस का विकराल रूप अभी तक थमा नहीं है। दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। 3 करोड़ 80 लाख से ज्यादा लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं, वहीं अब तक ये वायरस 10 लाख से भी ज्यादा लोगों की जान ले चुका है। महामारी के कहर के बीच कोरोना की वैक्सीन का हर कोई बेसब्री से इंतेजार कर रहा है।

Johnson & Johnson की वैक्सीन का ट्रायल रूका

कोरोना वैक्सीन को लेकर अधिकतर देशों में काफी तेजी से काम चल रहा है। कई देश तो वैक्सीन बनाने का दावा भी कर चुके है। इसी बीच कोरोना वैक्सीन जल्द मिलने की उम्मीद को एक बड़ा झटका लगा है। दरअसल, अमेरिका की फेमस कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने अपनी कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल को रोक दिया है। ट्रायल में शामिल एक वॉलिंटयर में “अनजान बीमारी” देखने को मिली थी, जिसकी वजह से वैक्सीन के ट्रायल को रोका गया।

यह भी पढ़े: कोरोना वैक्सीन को लेकर सरकार ने तैयार कर लिया प्लान, जानिए कैसे आप तक पहुंचेगी Vaccine?

वॉलिंटयर में दिखी अनजान बीमारी

इसको लेकर कंपनी की तरफ से एक बयान जारी किया गया हैं, जिसमें उन्होनें कहा कि हमारी पहली जिम्मेदारी टेस्ट में शामिल हर शख्स की सुरक्षा है। इसी वजह से ट्रायल को कुछ दिनों के लिए रोका जा रहा है। कंपनी की ओर से कहा गया कि वो वॉलिंटयर में दिखी बीमारी को समझने की कोशिश में है। कंपनी के क्लीनिकल और सुरक्षा से जुड़े डॉक्टर के अलावा स्वतंत्र डेटा मॉनिटरिंग बोर्ड मूल्यांकन कर रहे हैं।

पहले इस वैक्सीन का रूका था ट्रायल

इससे पहले एस्ट्राजेनेका भी अपनी कोरोना वैक्सीन के ट्रायल पर रोक लगा चुका है। ट्रायल के दौरान एक वॉलिंटयर बीमार हो गया है, इसके बाद कंपनी ने ट्रायल को रोक दिया था। हालांकि एस्ट्राजेनेका का कोरोना वैक्सीन ट्रायल भारत समेत दुनिया के कई देशों में जारी है, केवल इसको अमेरिका में ही रोका गया।

यह भी पढ़े: इसी साल कोरोना वैक्सीन मिलने की उम्मीद बढ़ी! नवंबर तक आम लोगों के लिए उपलब्ध हो सकती है ये Vaccine

आपको बता दें कि इसी महीने की शुरुआत में जॉनसन एंड जॉनसन अमेरिका में कोरोना वैक्सीन बनाने वालों की शॉर्ट लिस्ट में शामिल हुआ था। जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन, अमेरिका में चौथी ऐसी वैक्सीन है जो क्लिनिकल ट्रायल के आखिरी फेज में है। कंपनी ने अपनी पिछली रिपोर्ट में ये कहा था कि शुरुआती स्टडी में वैक्सीन ने कोरोना के खिलाफ मजबूत इम्यून रिस्पॉन्स दिया। ये कहा गया कि क्लिनिकल ट्रायल के रिजल्ट के मुताबिक वैक्सीन का कोई गंभीर दुष्प्रभाव अब तक सामने नहीं आए।

Johnson & Johnson कंपनी ने वैक्सीन के आखिरी फेज का ट्रायल हाल ही में शुरु किया गया था। जिसके तहत अमेरिका, ब्राजील, साउथ अफ्रीका, कोलंबिया, चिली, मैक्सिको और पेरू में 60 हजीर लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल होना है। ऐसे में वैक्सीन के ट्रायल पर रोक लगना एक बड़ा झटका है।

यह भी पढ़े: अब इस नई स्टडी ने बढ़ाई टेंशन! बार-बार रूप बदला रहा कोरोना, क्या वैक्सीन भी नहीं होगी असरदार?