पहले गोगोई, अब पटेल: कुछ ही घंटों में कांग्रेस ने अपने दो दिग्गजों को खोया, दोनों ही थे पार्टी के भरोसेमंद

2 congress leader passed away

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को महज कुछ ही घंटों में दो बड़े झटके लगे। 2 दिग्गज नेता कांग्रेस का साथ छोड़ गए। हाल ही में असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई का निधन हो गया था। अब कांग्रेस के भरोसेमंद नेता अहमद पटेल भी दुनिया को अलविदा कह गए हैं। इन दोनों की गिनती गांधी परिवार के करीबियों में होती थीं।

सोमवार को हुआ था तरुण गोगोई का निधन

असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई सोमवार को दुनिया छोड़ गए थे। 86 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। पहले तरुण गोगोई 25 अक्टूबर को कोरोना से संक्रमित हुए थे। वो एक बार ठीक हो चुके थे, लेकिन पोस्ट कोविड कॉम्पलिकेशन का सामना कर रहे थे। तरुण गोगोई तीन बार असम के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान रहे। वो राजनीति में करीबन पांच दशकों तक एक्टिव थे।

यह भी पढ़े: चुनावों में खराब प्रदर्शन के बाद कांग्रेस में नहीं थम रही रार! सिब्बल के बाद अब चिदंबरम ने कह डाली ये बड़ी बात

इंदिरा गांधी सरकार के दौरान गोगोई पहली बार संसद पहुंचे थे, जिसके बाद उन्होनें कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा। ऐसा कम ही देखने को मिलता है जब पूर्वोत्तर का कोई नेता दिल्ली तक पहुंच रखें। लेकिन गोगोई ने ये किया था। वो जितना रुतबा असम में रखते थे, उतनी ही उनकी पहुंच दिल्ली तक भी थीं। गोगोई ने इंदिरा गांधी से लेकर राजीव गांधी, सोनिया गांधी और अब राहुल गांधी के साथ काम किया। गांधी परिवार उन पर काफी भरोसा करता था। हालांकि अंतिम दौर में उनको असम में तब मुश्किलों का सामना करना पड़ा, जब हेमंता बिस्वा शर्मा ने कांग्रेस छोड़ी। इससे उनके साथ कांग्रेस पार्टी को भी झटका लगा।

…नहीं रहे अहमद पटेल

अहमद पटेल को कांग्रेस का चाणक्य कहा जाता था। गुजरात से आने वाले अहमद पटेल लंबे समय से सोनिया गांधी के सियासी सलाहकार थे। पूर्व पीएम राजीव गांधी की मृत्यु के बाद जब कांग्रेस की बागडोर को सोनिया गांधी ने संभाला, तब से ही अहमद पटले उनके साथ रहे। जब कभी भी कांग्रेस किसी संकट में आई, तो वो अहमद पटेल ही थे जिन्होनें पार्टी को उन सबसे बाहर निकाला।

यह भी पढ़े: फ्रांस का विरोध करना कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद को पड़ा भारी, शिवराज सरकार ने लिया तगड़ा एक्शन

पटेल तीन बार लोकसभा और पांच बार राज्यसभा सदस्य रहे। उनके सियासी सफर के दौरान 6 बार कांग्रेस पार्टी केंद्र में रहीं। अगस्त 2018 में उन्हें कांग्रेस पार्टी का कोषाध्याक्ष नियुक्त किया गया था। वो हमेशा ही पर्दे के पीछे राजनीति करने के लिए जाने जाते थे और साथ ही पार्टी के भरोसेमंद नेताओं में से एक थे।

पटेल बीते महीने कोरोना वायरस का शिकार हो गए थे, जिसके बाद से ही उनकी तबीयत लगातार खराब बनी रही। 71 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। अहमद पटेल के बेटे फैजल पटेल ने उनके निधन की जानकारी दी। फैजल पटेल ने बताया कि उनके पिता अहमद पटेल का आज सुबह 3 बजकर 30 मिनट पर निधन हो गया। अहमद पटेल के निधन से कांग्रेस पार्टी को बहुत बड़ा झटका लगा।

यह भी पढ़े: ‘कांग्रेस अध्यक्ष बनना चाहते हो क्या?’ इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर दिग्विजय सिंह ने किया ऐसा ट्वीट, हो गए बुरी तरह ट्रोल