चीनी वैज्ञानिक का हैरान कर देने वाला दावा, कहा- चीन और WHO ने मिलकर कोरोना वायरस…

chinese scientist big claims on corona virus

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने पिछले साल के अंत में चीन के वुहान शहर में दस्तक दी थी. इस वायरस ने देखते ही देखते दुनियाभर के करोड़ो लोगों को अपना शिकार बना लिया. 3 करोड़ 18 लाख से ज्यादा लोग अब तक इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं. वहीं 9 लाख 76 हजार से अधिक लोगों की मौत पूरी दुनिया में कोरोना की वजह से हुई है.

कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर से ही फैला है, इस वजह से इसको लेकर चीन हमेशा ही सवालों के घेरे में बना रहता है. कोरोना वायरस कहां से आया, इसको लेकर एक्सपर्ट्स की अलग-अलग राय है. वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तो कोरोना वायरस को लेकर सीधे तौर पर चीन को जिम्मेदार ठहारते हैं और कई मौकों पर इसे ‘चाइनस वायरस’ भी बोलते हुए नजर आए हैं.

यह भी पढ़े: प्राइवेट अस्पतालों की बड़ी लापरवाही: इन 4 हॉस्पिटल में भर्ती सभी 48 कोरोना संक्रमित मरीजों की हुई मौत, जानें वजह!

चीनी वैज्ञानिक का बड़ा दावा

इसी बीच एक चीनी वायरस वैज्ञानिक डॉक्टर ली मेंग यान ने कोरोना को लेकर एक बहुत बड़ा दावा किया है. उन्होनें कहा है कि इस खतरनाक वायरस को वुहान की एक सरकारी लैब में विकसित किया गया था. ये बात उन्होनें एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में कही. ली मेंग यान ने भी दावा किया कि चीनी सरकार को संक्रमण के फैलने के बारे में भी जानकारी थी.

WHO पर भी कही ये बात

वुहान में प्रकोप की शुरुआत में कोरोना वायरस की उत्पत्ति की जांच करने वाली डॉक्टर ने बताया कि उन्होंने वुहान में प्रकोप के छिपाए जाने का पता लगाया था. ली मेंग यान ने दावा किया है कि सार्वजनिक रूप से स्वीकार करने से पहले से ही चीनी सरकार को वायरस के फैलने के बारे में जानकारी थी. इतना ही नहीं यान के मुताबिक विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) भी इसका हिस्सा है.

यह भी पढ़े: कोरोना से हो रही मौतों को AIIMS के डॉक्टरों ने दिया नया टर्म, ऐसे करता है बॉडी को अटैक

यान ने कोरोना की उप्पत्ति के संबंध में कहा कि वुहान के बाजारों से इस वायरस के फैलने की जो बात चीनी सरकार ने कही है, वो केवल पर्दा डालने की कोशिश है. आपको बता दें कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी कोरोना महामारी को एक प्राकृतिक आपदा बताते हैं. उनके अनुसार ये वायरस संक्रमित जानवरों से इंसानों में आया है.

हांग कांग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में वैज्ञानिक रह चुकीं डॉक्टर ली मेंग यान ने कहा कि चीन में उनके वरिष्ठों की तरफ से मुंह बंद करने की कोशिश की गई. साथ ही उन्होनें चीनी सरकार पर सोशल मीडिया और साइबर हमलों के जरिए अपनी छवि धूमिल करने का भी आरोप लगाया.

इससे पहले भी 14 सितंबर को यान ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए ये दावा किया था कि कोरोना वुहान की एक लैब में बनाया गया है. कोरोना वायरस पर यान लंबे समय से शोध कर रही थीं. उन्होंने मुताबिक शोध के दौरान पता चला कि कोरोना वायरस चीन की एक लैब में विकसित किया गया था.

यह भी पढ़े: अब इस नई स्टडी ने बढ़ाई टेंशन! बार-बार रूप बदला रहा कोरोना, क्या वैक्सीन भी नहीं होगी असरदार?