ड्रैगन की खुली पोल! डोकलाम में गांव बसाने के साथ 9 किमी. लंबी सड़क भी बनाई, सैटेलाइट तस्वीरों से हुआ बड़ा खुलासा

INDIA CHINA DOKLAM

चालबाज चीन बाज आने के नाम नहीं ले रहा। भारत और चीन के बीच LAC पर विवाद अब तक थमा नहीं है। इसी बीच ड्रैगन की एक और बड़ी चाल की पोल खुल गई है। साल 2017 में भारत के हाथों की मुंह की खाने के बाद चीन ने अब डोकलाम इलाके में बड़े पैमाने पर किलेबंदी कर ली है। इसको लेकर सैटलाइट तस्वीरों में बड़ा खुलासा हुआ है।

सैटेलाइट तस्वीरों ने खोली चीन की पोल

सैटलाइट तस्वीरों से ये पता चला है कि चीन ने ना सिर्फ डोकलाम पठाक के पूर्वी इलाके में भूटान की सीमा के दो किलोमीटर अंदर एक गांव बसा लिया। साथ ही चीन ने इस इलाके में 9 किमी तक सड़क भी बना ली। ये माना जा रहा है कि ये सड़क जोंपलरी पहाड़ी तक चीन की सेना को पहुंचने के लिए एक वैकल्पिक रास्ता मुहैया कराएगी। साल 2017 में भारतीय सेना ने चीन को इसी पहाड़ी पर जाने से रोका था। अगर चीन यहां तक अपनी पहुंच बना लेता है, तो वो भारत के ‘चिकन नेक’ पर सीधी नजर रख सकता है।

यह भी पढ़े: India China Border Issue: फिर आंख में धूल झोंक रहा ड्रैगन! बातचीत का ठोंग कर रच ऐसे दे रहा धोखा

3 साल पहले भारतीय सेना ने चाल की थी नाकाम

साल 2017 में भारत और चीन के बीच इसी को लेकर विवाद हुआ था। चीनी सेना का निर्माण दस्ता सड़क का विस्तार कर जोंपलरी पहाड़ी तक रास्ता बनाना चाहता था। ये रास्ता भारतीय सेना के डोका ला पोस्‍ट के पास से होकर सिक्किम और डोकला की सीमा के बीच में स्थित था। भारत की सेना ने इस निर्माण को करने से रोक दिया था। अगर चीनी सेना की पहुंच जोमपेलरी पहाड़ी के इलाके में हो जाती, तो वो इससे भारत के चिकन नेक यानी सिलिगुड़ी कॉरिडोर तक नजर रख सकता था। रणनीतिक तौर पर सिलिगुड़ी कॉरिडोर काफी अहम है, जो भारत की मुख्‍यभूमि को पूर्वोत्‍तर के राज्‍यों से जोड़ता है। इस खतरे को ही देखते हुए भारतीय सेना ने 2017 में चीनी सेना की इस चाल को नाकाम कर दिया था।

NDTV की एक रिपोर्ट के अनुसार अब इस विवाद को तीन साल हो जाने के बाद चीनी निर्माण दस्ता अब जोंपलरी पहाड़ी के लिए एक नया रास्ता बनाने पर काम कर रहा है। टोर्सा नदी से सटकर एक रास्‍ता तैयार किया और इसे भूटान सीमा में बनाया गया।

यह भी पढ़े: इमरान को दोस्तों से मिला “दगा”, FATF में इस इकलौते देश ने ही निभाया साथ, चीन ने भी कर लिया किनारा

राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सैटेलाइट तस्वीरों को लेकर एक बार फिर से मोदी सरकार पर निशाना साधा। राहुल गांधी ने कहा- ‘चीन की भू-राजनीतिक रणनीति को PR संचालित मीडिया रणनीति से जवाब नहीं दिया जा सकता। लेकिन ये साधारण तथ्य भारत सरकार को चलाने वालों के दिमाग से अलग है।’

गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच बीते 8 महीनों से LAC पर भी तनाव का माहौल बना हुआ है। सीमा पर दोनों देश के सैनिक आमने-सामने है। दशकों बाद जून के महीने में ऐसे हालात बन गए थे, जब दोनों देशों के सैनिकों में हिंसक झड़प हो गई थी। इसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए और चीन को भी भारी नुकसान हुआ था। हाल ही में ये खबर आई कि दोनों देशों के बीच महीनों से जारी विवाद अब जल्द ही सुलझ सकता है।

खबर आई थीं कि भारत और चीन के बीच विवाद वाली जगहों से सेना हटाने यानी डिस्इंगेजमेंट (Disengagement) की सहमति बन गई और दोनों देश के सैनिक तीन फेज में पीछे हटेंगे। लेकिन अब तक जमीनी स्तर पर ऐसा कुछ भी होता नहीं दिख रहा। बताया जा रहा है कि चीन एक बार फिर से बातचीत का ठोंग रच भारत की आंखों में धूल झोंकने की तैयारी में है।

यह भी पढ़े: बीजेपी नेता तजिंदर बग्गा की इस हरकत से चीन को लगी मिर्ची, धमकी देते हुए कहा- ये आग से खेलने का काम