अब लॉकडाउन के दौरान पुलिस के साथ मारपीट करने वालों की खैर नहीं! योगी सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला

कोरोना महामारी से लड़ने के लिए देशभर में 14 अप्रैल तक का लॉकडाउन जारी है. इसी बीच कई लोग लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए बेवजह घरों से बाहर भी निकलते हुए नजर आ रहे हैं. इस दौरान पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करती हुई नजर आती हैं. वहीं इसी बीच पुलिस के साथ मारपीट की कई घटनाएं भी सामने आ रही है. इन्हीं घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है.

यूपी सरकार का बड़ा फैसला

योगी सरकार ने पुलिस के साथ मारपीट करने वाले उपद्रवियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (National Security Act) के तहत कार्रवाई करने का आदेश दिया है. सीएम योगी ने अधिकारियों को आदेश दिया है कि प्रदेश में किसी भी जगह पर पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट करने वालों के खिलाफ NSA के तहत कार्रवाई की जाए.

यह भी पढ़े: ‘रविवार रात 9 बजे जलाएं घर के बाहर दीया’, जानिए वीडियो संदेश में पीएम मोदी ने क्या-क्या कहा?

पुलिस के साथ मारपीट के आ रहे हैं कई मामले

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ये फैसला पश्चिमी यूपी की कई जगहों से पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की हुई घटनाएं सामने आने के बाद लिया. जानकारी के लिए आपको बता दें कि 1 अप्रैल को भी मुजफ्फरनगर में लॉकडाउन के दौरान घर से बाहर निकलने पर मना करने को लेकर कुछ लोगों ने पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया था. लोगों ने कई पुलिसवालों पर जानलेवा हमला किया था, जिसमें चौकी प्रभारी समेत कई अन्य पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए थे जिनको इलाज के लिए मेरठ के अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

सिर्फ पुलिसकर्मी ही नहीं कुछ लोग स्वास्थ्यकर्मी पर भी हमला करते हुए नजर आ रहे हैं. दिल्ली समेत कई जगहों से ऐसी खबरें सामने आ चुकी है. हाल ही में इंदौर में कुछ लोगों ने स्वास्थ्यकर्मी पर जानलेवा हमला किया था.

यह भी पढ़े: कांग्रेस की पुरानी आदत, जब भी राष्ट्रहित की बात आई है उसने हमेशा से अलग ही राह पकड़ी- अमित शाह

क्या होता है NSA?

राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) के अंतर्गत कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए किसी भी संदिग्ध व्यक्ति को हिरासत में लिया जा सकता है. कानून के तहत शख्स को एक साल तक जेल में भी रखा जा सकता है. इसके बारे में राज्य सरकार को ये बताना होता है कि उसने संबधित व्यक्ति पर NSA के तहत कार्रवाई की है. साथ ही उस व्यक्ति पर बिना आरोप तय किए 10 दिनों तक जेल में रखा जा सकता है.

यह भी पढ़े: COVID-19: कोरोना के उड़ाई अमेरिका की नींद, एक दिन में 1169 मौते, 245070 संक्रमित